Skip Navigation Links
जोधपुर स्थित उमेद सागर झील
 
चिन्तन

अरना-झरना संग्रहालय का मूलाधार ज्ञान को परस्पर एक-दूसरे के साथ बाँटना है। इस विचार के तहत विश्व के विभिन्न देशों से और विभिन्न विधाओं से जुड़े लोगों का अरना-झरना संग्रहालय में आवागमन रहा है। पिछले एक वर्ष में अमेरीका, मेक्सीको, फिलिपीन्स और साऊथ अफ्रीका से आये विचारक, कलाकार और अध्ययनकर्ताओं ने अपने अनुभव औऱ ज्ञान को हमारे साथ बाँटा है।

वेबसाईट के इस हिस्से में अरना-झरना संग्रहालय और पारंपरिक ज्ञान सूत्रों से जुड़े उनके विचार प्रस्तुत किये गये हैं। इन लेखों में झाडू़ से जुड़े तात्विक सवाल हैं, तो मरू संस्कृति के पहलुओं का आकलन भी है।

सामुदायिक बोधशाला के विद्यार्थी

यदि आप अरना-झरना संग्रहालय आये हैं और अपने विचार व्यक्त करना चाहते हैं और यदि आपको लगता है कि आपका कार्य और अध्ययन अरना-झरना के मूलाधार से मेल खाता है, तो आप अपने लेख info@arnajharna.org को भेज सकते हैं।



मैरियन पैस्टर रोसेस
मैरियन पैस्टर रोसेस फिलिपीन्स में मनीला, स्थित म्यूज़ियम ऑफ फिलिपीन कल्चर की निदेशक हैं। साथ ही वह सु्प्रसिद्ध क्यूरेटर भी हैं। उन्होंने सामाजिक इतिहास से जुड़े अनेक प्रयोगात्मक संग्रहालय स्थापित किये हैं। इस लेख में उन्होंने अरना-झरना संग्रहालय से जुड़े अनुभव और विचार व्यक्त किये हैं।
Marian's article in Hindi.pdf   
जेस्सी ली बिशप
जेस्सी ली बिशप अमेरीका में मिनासोटा स्थित मिनियापॉलिस विश्वविद्यालय में अंग्रेजी साहित्य के छात्र हैं। अपने समर प्रोजेक्ट के लिये वह अरना-झरना संग्रहालय आये थे। वहां आयोजित संगीत की एक वर्कशॉप में वह शामिल हुए। प्रस्तुत है उनका अनुभव।
Jesse in Hindi.pdf   
 
 
 Top 


 All rights reserved with Rupayan Sansthan. Powered By Neuerung